Monday, November 23, 2015

Dil Se Yaad Karta Kaun Hai

Dhananjay Parmar
Dhananjay Parmar 

प्रणाम मित्रो ,



जो मुंह तक उड़ रही थी अब लिपटी है पाँव से .......

जरा सी बारिश क्या हुई मिटटी की फितरत बदल गई ..... !!!!!